गीता भवन अंडर ब्रिज पर नहीं हो रहा वन-वे रूट का पालन, लग रहा है जाम

 


मंदसौर शहर के गीता भवन अंडर ब्रिज मे यातायात व्यवस्था में सुधार करने के लिए यातायात पुलिस ने वन वे रूट नियम चालू किया था लेकिन नियम का पालन पुलिस जवानों के हटते ही लोग नियम का पालन करना छोड़ देते हैं जिसके कारण वहां पर भयंकर जाम लग जाता है। जाम की ज्यादा समस्या शाम से रात तक बहुत रहती है। ऐसे में यातायात पुलिस ने रविवार को नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ चालानी कार्यवाही शुरू कर दी है।


जाम लगने का मुख्य कारण क्या है

जाम लगने का मुख्य कारण मंदसौर शहर का बड़ा हिस्सा रेलवे फाटक के दूसरी तरफ और 24 से ज्यादा कालोनियों में रहता है और उधर रहने वाले सभी लोगों का शहर में आने-जाने के तीन ही मार्ग है जिसमें मेड इंडिया रेलवे फाटक मार्ग पर फरवरी से ब्रिज का कार्य चल रहा है जिससे वह मार्ग बंद है। पिछले दिनों प्रशासन ने संजीत रोड रेलवे फाटक को भी अंडर ब्रिज निर्माण के चलते हैं बंद कर दिया है जिसके कारण सभी लोगों का दबाव गीता भवन अंडर ब्रिज पर आ गया है और वहां पर जाम की समस्या होने लगी है।


समस्या को दूर करने के लिए बनाया गया नियम

किसी समस्याओं को दूर करने के लिए यातायात पुलिस ने भास्कर के सुझाव पर व्यवस्था में सुधार के लिए वन वे की व्यवस्था लागू की लेकिन पुलिस जवानों के हटते ही लोग नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं जिस पर पुलिस ने कार्यवाही करना शुरू कर दी है।


₹4500 का जुर्माना लगाया जा रहा है

पुलिस ने नियमों का उल्लंघन करने वालों के 4500 रुपए का जुर्माना लगाया है पुलिस ने 18 लोगों पर जुर्माना लगा दिया है। यहां पर सख्ति लगाना बहुत जरूरी है। रविवार को पूरे दिन में लगभग 18 जनों से जुर्माना वसूला गया है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Popular Posts

डोराना जुलूस में विवाद: बांदाखेड़ी फंटे पर दो युवकों पर चलाई एयर गन, लाठी से पिटाई भी की और बाइक भी जला दी
मंदसौर में 400 से अधिक पक्षियों की मौत के बाद विभाग ने  किया अलर्ट जारी, पशुपालन विभाग पूरे जिले को आठ भागों में बांट कर रखेगा बर्ड फ्लू पर नजर
उज्जैन के बाद अब इंदौर में भी हुआ राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने वाले लोगों पर हुआ हमला कई लोग घायल हुए।
पंचायत की कुछ व्यवस्थाओं से ग्राम गोगरपुरा के निवासी हैं काफी नाखुश, जानिए ग्रामीणों को किन चीजों में दिक्कत आ रही है
 WhatsApp पर खतरा: गूगल पर पब्लिक हो चुकी है ढेरो सारी ग्रुप चैट लिंक, कोई भी इसमें जुड़ सकता है, व्हाट्सएप प्रोफाइल पर भी है खतरा