लहसुन-प्याज मंडी में 21 दिसंबर से बिना टोकन किसानों को मिलेगा प्रवेश

 


प्रतापगढ़ कृषि उपज मंडी परिसर में लहसुन प्याज मंडी में कोरोना काल के चलते किसानों को टोकन व्यवस्था के तहत मंडी में प्रवेश दिया जा रहा था लेकिन अब किसानों को बिना टोकन के प्रवेश दे दिया जाएगा। मंडी सचिव मदन लाल गुर्जर ने बताया कि मंडी में किसानों की मांग और अनाज की आवक को देखकर यह फैसला लिया गया है कि 21 दिसंबर से टोकन व्यवस्था आगामी दिनों के लिए समाप्त कर दी जाएगी।

किसानों को करने होंगे दिशा निर्देशों के पालन

मंडी सचिव मदन लाल गुर्जर ने कहा कि इसके साथ साथ किसानों को कोरोना के सभी दिशा निर्देशों का पालन करना होगा। मंडी में जिंसों की आवक बढ़ने और कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए वस्तु स्थिति को देखकर अगला निर्णय लिया जाएगा। लहसुन प्याज के किसानों के मंडी में प्रवेश और अनाज की नीलामी की व्यवस्था पहले जैसी ही रहेगी।

लहसुन प्याज के मंडी में प्रवेश होने का समय

लहसुन प्याज वाले किसानों को मंडी में सुबह 7:00 से 9:30 बजे तक प्रवेश दिया जाएगा। इसके बाद गेट बंद कर दिए जाएंगे और गेट फिर अगले दिन इसी समय पर खोले जाएंगे। सचिव ने सभी किसानों से आग्रह किया है कि आप अपना माल समय पर लेकर आवे और मंडी में नियम अनुसार रास्ता छोड़कर अपना माल साइड में खाली करें। सभी कोरोना के चलते मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अवश्य करें।

मंडी में लहसुन और प्याज की आवक कम होने का नाम ही नहीं ले रही है भाव तो प्याज के धीरे-धीरे घटते जा रहे हैं लेकिन आवक घटने का नाम नहीं ले रही। मंडी में इतना प्याज आ रहा है कि प्रतिदिन गेट बंद करने पड़ रहे हैं। शुक्रवार को प्याज का भाव 2300 से नीचे ही रहा और प्रतिदिन भाव घटता भी जा रहा है। भाव घटने के कारण किसान जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी अपना माल मंडी में ला रहे हैं जिससे मंडी में भीड़ ज्यादा हो रही है। हालांकि किसानों का माल खाली करने के अगले दिन नीलाम हो जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ