शिक्षा विभाग द्वारा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा के नियमों में किया गया बहुत बड़ा बदलाव

 Mp Today news

मध्यप्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में एक नया नियम लागू किया गया है की अब से सप्लीमेंट्री परीक्षा नहीं होगी इसका प्रावधान खत्म कर दिया गया है और अब इसकी जगह विद्यार्थी को फेल होने पर परीक्षा का दूसरा मौका दिया जाएगा।यानी अगर किसी विद्यार्थी के पहली परीक्षा में पर्याप्त नंबर नहीं आते हैं तो उसे दोबारा परीक्षा देनी होगी।

10वीं और 12वीं के छात्रों को मिली राहत

एमपी बोर्ड में दसवीं और बारहवीं के छात्रों को एक प्रकार से वरदान ही दे दिया है।मध्यप्रदेश में कक्षा 10वीं और 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षा नहीं होगी बच्चे के कितने भी नंबर आए हो उसे सप्लीमेंट्री परीक्षा नहीं देनी होगी।स्कूल शिक्षा विभाग में सप्लीमेंट्री का प्रावधान पूरी तरह से खत्म कर दिया है।


अब फेल होने वाले छात्र को क्या करना होगा

आपके मन में अब यह सवाल आ रहा होगा कि अगर सरकार ने सप्लीमेंट्री परीक्षा का प्रावधान खत्म कर दिया है तो फेल होने वाले विद्यार्थी को क्या करना पड़ेगा।

सरकार ने सप्लीमेंट्री परीक्षा का प्रावधान खत्म करने के साथ यह भी नियम लगाया है कि जो बच्चा पर्याप्त अंक प्राप्त नहीं कर सकेगा उसके लिए दोबारा परीक्षा करवाई जाएगी जिसमें वह अपने अंक पा सकता है।

पहले जब विद्यार्थी किसी भी विषय में फेल हो जाता था यानी कि वह पर्याप्त अंक नहीं ला पाता था तो उसे सप्लीमेंट्री परीक्षा देनी पड़ती थी लेकिन अब विद्यार्थी को एक और मौका दिया जाएगा। यह स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा बोर्ड कक्षाओं की परीक्षा के लिए अच्छा एवं उचित साबित हो सकता है।


इससे विद्यार्थी को क्या फायदा होगा

इस नियम से विद्यार्थी को यह फायदा होगा कि पहले जब विद्यार्थी किसी भी विषय में फेल हो जाता था तो उस की सप्लीमेंट्री परीक्षा होती थी जिसके कारण उसकी मार्कशीट पर सप्लीमेंट्री का स्टार लग जाता था लेकिन अब विद्यार्थी की मार्कशीट पर वह स्टार नहीं लगेगा जबकि विद्यार्थी द्वारा दूसरी परीक्षा में प्राप्त अंक मार्कशीट पर लिखे जाएंगे।


एक और बड़ा बदलाव नियमों में किया गया है

 आपको बता दें कि इसके अलावा एक और बड़ा बदलाव शिक्षा विभाग द्वारा किया गया है कि अगर विद्यार्थी चाहे तो सभी विषयों की परीक्षा दोबारा दे सकता है। पहले अगर कोई विद्यार्थी दो विषयों में फेल हो जाता था तो उसे उन विषयों की सप्लीमेंट्री परीक्षा देनी होती थी और अगर दो से ज्यादा विषयों में फेल हो जाता था तो उसे पूरा साल रिपीट करना होता था लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। अब विद्यार्थी चाहे तो फेल होने वाले विषय के अलावा वह सभी विषयों की परीक्षा भी दोबारा दे सकता है। यह भी एक बहुत बड़ा महिलाओं शिक्षा विभाग द्वारा किया गया है।


 क्या यह नियम इसी साल से लागू हो जाएगा?

 सवाल यह उठता है कि क्या यह नियम इसी वर्ष से लागू होगा या नहीं। शिक्षा विभाग की माने तो यह नियम स्कूलों में अगले सत्र से लागू किया जाएगा। इसमें छात्रों को फायदा मिलेगा और सप्लीमेंट्री भी नहीं देनी पड़ेगी। सरकार इसे इस वर्ष से भी लागू कर सकते हैं लेकिन ज्यादा संभावना अगले सत्र से ही चालू करने की होगी क्योंकि इसको सभी प्रकार से एक बार चेक किया जाएगा उसके बाद इसको लागू किया जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा