मंदसौर मंडी में गिरे प्याज के दाम आवक ज्यादा से भाव हुए कम, किसान आंदोलन के कारण भी भाव कम होने का कारण बताए जा रहे हैं ।

 




प्याज के दाम निरंतर गिरते जा रहे है जिसको लेकर मंदसौर मैं भी इसके असर देखने को मिल रहे हैं । पिछले माह में प्याज के दाम ₹4000 क्विंटल तक बिक रहे थे जोकि और धीरे-धीरे कम होते जा रहे हैं जो की भाव पहले से भी आधा रह गया है ।  पहले प्याज 4000 से ₹4500 क्विंटल बिक रहा था तो अब  दाम 2000 के आसपास बिक रहे हैं । 2 दिन पहले मंडी में बीके प्याज के न्यूनतम मूल्य 600 से अधिकतम  2200 तक रुपए तक ही रह गए हैं वही यह भाव नवंबर के अंतिम सप्ताह में चार हजार के आसपास चल रहा था । 

भाव कम को लेकर किसानों का क्या कहना है ।

मंदसौर के किसानों का कहना है कि भाव में निरंतर गिरावट आ रही है जिससे कि लागत भी निकालना मुश्किल हो रही है । वही मंडी व्यापारियों का कहना है कि आगे से भाव न्यूनतम है तो दामों में कमी देखने को मिल रही है । कुछ व्यापारियों का कहना है कि आवक ज्यादा होने से भाव कम देखने को मिल रहा है । नवंबर के अंतिम महीने में प्याज 1200 से 3700 रूपए क्विंटल बिक रहा था । तो अब वही भाव 600 से 1200 रुपए क्विंटल बिक रहे हैं ।

व्यापारियों का कहना है कि आगे से मांग कमजोर होने के कारण भाव में कमी देखने को मिल रही है । वहीं दूसरी ओर दिल्ली ,पंजाब बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन का कारण भी बताया जा रहा है जिससे कि माल आगे सप्लाई नहीं हो पाने के कारण भाव में गिरावट देखने को मिल रही है वही किसानों का कहना है कि इतने कम भाव में खेती की लागत निकालना ही मुश्किल हो रही है ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Popular Posts

डोराना जुलूस में विवाद: बांदाखेड़ी फंटे पर दो युवकों पर चलाई एयर गन, लाठी से पिटाई भी की और बाइक भी जला दी
बिना डीजल के चलने वाला इलेक्ट्रॉनिक ट्रैक्टर किया लॉन्च ,नई टेक्नोलॉजी के साथ देश का पहला इलेक्ट्रॉनिक ट्रैक्टर को किसान दिवस के मौके पर सोनालिका कंपनी ने किसानों को दिया तोहफा ।
मंदसौर में 400 से अधिक पक्षियों की मौत के बाद विभाग ने  किया अलर्ट जारी, पशुपालन विभाग पूरे जिले को आठ भागों में बांट कर रखेगा बर्ड फ्लू पर नजर
उज्जैन के बाद अब इंदौर में भी हुआ राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा एकत्रित करने वाले लोगों पर हुआ हमला कई लोग घायल हुए।
पंचायत की कुछ व्यवस्थाओं से ग्राम गोगरपुरा के निवासी हैं काफी नाखुश, जानिए ग्रामीणों को किन चीजों में दिक्कत आ रही है