पैरोल से लौटे बंदियों को मिला फिर से 14 दिन पैरोल का लाभ

 Corona News mp

कोरोना काल में कोरोना संक्रमण के कारण मध्य प्रदेश सरकार पैरोल पर चल रहे सभी बंदियों की पैरोल लगातार बढ़ाती जा रही थी । सरकार ने इसी पैरोल को बंदियों के लिए और भी आगे बढ़ा दिया है और इसे 15 दिन और आगे बढ़ाया गया है। इसका कारण है कि कोरोना का फिर से एक्टिवेट हो जाना।

देश में कोरोना जैसे तैसे धीरे धीरे कम हो रहा था लेकिन अचानक उसका फिर से पैर पसारना सरकार के लिए एक कठिनाई खड़ी हो गई है इसी के चलते सरकार ने जेल में जिन कैदियों को पैरोल पर भेजा गया था उनका पैरोल 15 दिन और आगे बढ़ा दिया गया है।

क्यों भेजा जा रहा है बंदियों को पैरोल पर

सवाल यह उठता है कि बंदियों को आखिर पैरोल पर भेजा क्यों जाता है इसका कारण अगर आपको मध्यप्रदेश का उदाहरण लेकर बताएं तो, मध्यप्रदेश की जेल में बंधुओं को रखने की जितनी क्षमता है उससे दुगनी संख्या वर्तमान में कैदियों की है और प्रशासन अभी कोरोना के कारण कैदियों को पास पास नहीं रख सकती और जो कैदी पैरोल पर गए हुए हैं अगर वह भी वापस जेल में आ जाए तो जेल में भी कोरोना संक्रमण का खतरा काफी हद तक बढ़ सकता है। और जो कैदी पैरोल पर गए हैं वह प्रदेश के विभिन्न इलाकों में रहते हैं और अगर उनमें से एक कैदी भी जेल में आते समय कोरोना संक्रमित हुआ तो वह अकेला जेल में कोरोना विस्फोट कर सकता है।

जब उज्जैन केंद्रीय जेल में सभी बंदी अपने पैरोल अवधि से लौटे तो उन्हें तुरंत फिर से 14 दिन का पैरोल लाभ मिल गया।

 जेल सुप्रिडेंट अलका सोनकर द्वारा जेल पर लौटे सभी पैरोल बंधुओं को संदेश दिया गया कि आपका पेरोल समय 15 दिन के लिए बढ़ा दिया गया है और आप अब जब भी जेल पर लौटे तो अपना कोरोना जांच करा कर ही जेल में प्रवेश करें और अपनी रिपोर्ट साथ लेकर आए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Popular Posts

चुन्नु लाला पहुंचा मंदसौर: उदयपुर पुलिस गैंगस्टर को लेकर पहुंची मंदसौर, कोर्ट ने दिया 6 दिन का रिमांड, उदयपुर और मंदसौर पुलिस की कड़ी सुरक्षा में पेशी
मानसून लाने के लिए लोग अपनाने हैं अजीब प्रथाएं, अविवाहित स्त्री को नग्न करके खेत जोताया जाता है, जानिए लोगों की यह प्रथाएं वाकई में काम करती हैं,कब और क्यो शुरू हुई यह प्रथाएं
राहत की किरण: मंदसौर में सामूहिक दुष्कर्म के 5 आरोपियों को मौत तक कैद की सजा, नाबालिग छात्रा को खेत में ले जाकर किया था दुष्कर्म
एक और गड़बड़ी: सिर्फ 6 माह 13 दिन में धंसा 28 करोड़ के शामगढ़ ओवरब्रिज का एप्रोच रोड, रास्ता हुआ बंद, सेतु विकास के इंजीनियर और निगरानी कंपनी की देखरेख में बना ब्रिज
मंदसौर: शहर के मुक्तिधाम में राख और अस्थियों के साथ हो रही छेड़छाड़, कुछ असामाजिक तत्वों ने शमशान को बना दिया है शराब का अड्डा