मध्य प्रदेश के उपचुनावों के परिणामों में देरी के आसार, आज शाम तक चलेगी काउंटिंग

चुनाव के परिणाम जानने के लिए करना होगा इंतजार



मध्य प्रदेश में 3 नवंबर को हुए उपचुनाव के बाद ना केवल इन 28 विधानसभाओं की जनता बल्कि पूरा मध्यप्रदेश परिणामों का इंतज़ार कर रहा है। यह इंतज़ार थोड़ा और लम्बा हो सकता है क्योंकि 10 Nov. को परिणाम शाम तक आने के आसार हैं ।


सूत्रों के मुताबिक वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू हो जाएगी और चुनाव परिणामों के रुझान एक घंटे बाद से ही समझ आने लगेंगे। हालांकि चुनावी ज्ञानियों को जीतने वाले पार्टियों और प्रत्याशियों का अनुमान लगाने के लिए कम से कम 12 बजे तक के रुझानों का इंतज़ार करना होगा। मतगणना के प्रत्येक राउंड के बाद रुझान तालिका बना कर घोषणा की जाएगी।


मतगणना शुरू होने से पहले सभी कर्मचारियों और अफसरों के तापमान की जांच की जाएगी, उन्हें सैनिटाइज कर मास्क भी उपलब्ध करवाए जाएंगे जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा कम रहेगा। और जहां मतगणना होगी उस स्थान को एक दिन पूर्व ही पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा। राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि मतगणना स्थान पर मौजूद रहेंगे। 


चुनाव आयोग द्वारा एक बड़े हॉल में 8 टेबलों की प्रबन्ध किया गया है ताकि (कोविड-19) कोरोनावायरस से बचाव के लिए कर्मचारियों में दूरी बनी रहे। कितने वोट डाले गए हैं उस आधार पर रिटर्निंग अधिकारियों को यह तय करना होगा कि कितने हॉल में यह कार्य सुविधा परवक सम्पन्न हो सके और मतगणना कितने भागों में करवाई जाएगी। पहले राउंड की घोषणा के बाद ही दूसरा राउंड शुरू किया जाएगा। इसी वजह से परिणाम के लिए नेता व जनता दोनों को देर शाम तक इंतजार करना होगा। 


फिलहाल सभी राजनीतिक दलों ने EVM पर कड़ी नजर रखने के लिए पुलिस जवानों को सुरक्षा की दृष्टि से लगा रखा है और कई अधिकारी इसकी निगरानी में लगे हुए हैं जिससे कि कोई हेराफेरी ना हो सके और व्यवस्थित रूप से मतगणना हो सके और कोई भी राजनीतिक दल EVM मशीनों के साथ छेड़छाड़ ना कर सके इसलिए काफी अच्छी सुरक्षा व्यवस्था की गई है 


आमतौर पर स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर 3 पार्टी कार्यकर्ता 8 घंटे की शिफ्ट में काम करते हैं लेकिन इस बार कांग्रेस ने स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर 4 कार्यकर्ताओं को हर शिफ्ट में तैनात किया है। प्रतिनिधियों के अलावा जिला कलेक्टरों ने लाइव सीसीटीवी कैमरा, पुलिस बल आदि के भी पुख्ता इंतजाम किए हैं।


और इस बार कांग्रेसमें भी स्ट्रांग रूम के बाहर अपने 4 कार्यकर्ताओं को लगाया है जो हर वक्त वहां तैनात रहते हैं और यह 4 कार्यकर्त्ता वहां मौजूद रहकर सुरक्षा की दृष्टि से नजर रखते हैं आमतौर पर देखा गया है कि कांग्रेस पार्टी तीन पार्टी कार्यकर्ताओं को स्ट्रांग रूम के बाहर तीन शिफ्ट है जोकी 8 घंटे की होती थी उसने रखते थे किंतु इस चुनाव में इन्होंने अपने 4 कार्यकर्ताओं को रखा है

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां