जी -20 शिखर सम्मेलन शुरू होगा आज से पीएम मोदी उठा सकते हैं आतंकवाद का मुद्दा जानिए क्यों है खास शिखर सम्मेलन ।

जी -20 शिखर सम्मेलन शुरू होगा आज से पीएम मोदी उठा सकते हैं


आज से जी 20 शिखर सम्मेलन शुरू हो रहा है जिसका मेजबानी सऊदी अरब में हो रहा है इस सम्मेलन में भारत भी भाग लेगा यह सम्मेलन दो दिवसीय है जो आज शनिवार से कल तक के लिए है । इसके अंतर्गत भविष्य में महामारी से निपटने, कोरोना वायरस से बचाव और स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं के भविष्य में सुधार करने  के लिए ओर साथ ही सभी देश मिलकर इस समस्या का समाधान निकालें जिसके लिल एक यह दो दिवसीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है ।

आज के समय को 1930 की आर्थिक  मंदि के बाद का अब तक का सबसे खराब समय बताया जा रहा है इसमें सभी देश मिलकर कोई बड़ी घोषणा कर सकते हैं।  सम्मेलन उस समय हो रहा है जब कोरोना वायरस के चलते किया जा रहा है यह 15 वा सम्मेलन है जो  शनिवार और रविवार को सभी देशों के बीच होने जा रहा है । 

इस साल दूसरी बार जी 20 वर्चुअल शिखर सम्मेलन होने जा रहा है इससे पहले यह सम्मेलन मार्च में हुआ था


कौन-कौन से देश ले रहे हैं शिखर सम्मेलन में भाग

आपको बता दें कि इस समय जी 20 शिखर सम्मेलन में भारत ,अमेरिका ,सऊदी अरब, कनाडा , ब्राज़ील, ऑस्ट्रेलिया, रूस ,दक्षिण कोरिया, अर्जेंटीना ,इटली, ब्रिटेन, इंडोनेशिया ,जापान ,चीन ,दक्षिण अफ्रीका ,फ्रांस ,तुर्की, जर्मनी ,कनाडा ,मैक्सिको ,एवं यूरोपीय संघ शामिल होंगे । 



बड़े देश सऊदी अरब ने कोरोना महामारी के बीच की भारत की तारीफ

सऊदी अरब ने भारत की तारीफ करते हुए कहा कि भारत ने जिस तरह कोरोना महामारी के बीच अपने देश की ही नहीं बल्कि सभी देशों में उनके जरूरत के सामान पहुंचाएं हैं दवाइयां जैसी सुविधा सही टाइम पर उपलब्ध करवाइए है  सऊदी अरब के राजदूत सऊद बिन मोहम्मद ने कहां कि यह हां शिखर सम्मेलन सभी देशों के लिए मील का पत्थर साबित होगा ‌। साथ ही कहा कि जिस तरह भारत ने चिकित्सा सुविधाओं की उपलब्धि और सामग्री की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं ।


भारत उठा सकता है आतंकवाद का मुद्दा और जलवायु परिवर्तन का मुद्दा भी उठा सकता है


जिस तरह भारत लगाता आतंकवाद के खिलाफ मुद्दा उठा था आ रहा है वह काहे की इससे भारत को ही नहीं बल्कि सभी देश को खतरा है और इसे खत्म करने के लिए कोई ठोस कदम उठाया जाना चाहिए ।

जिस तरह भारत ने जलवायु परिवर्तन पर भी कोई ठोस कदम लेने के लिए कहां है तब से ही  क्लाइमेट ट्रांसफर एजेंसी ने भारत की तारीफ की है जिसमें कहा था कि भारत ही है ऐसा देश है जो जलवायु परिवर्तन का मुद्दा उठा रहा है ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां