23 नवंबर से खुलने लगेंगे स्कूल और कॉलेज, योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

आखिर स्कूल और कॉलेज कब से शुरू होंगे ।

कोरोना काल चलने के कारण पूरे देश भर में बंद लगभग 8 महीनों से स्कूल और कॉलेज फिर से चालू करने का प्रयास सरकार द्वारा भरपूर किया जा रहा है। यूपी मैं भी जो कॉलेज स्कूल और विश्वविद्यालय काफी लंबे समय तक बंद थे और कोरोना संक्रमण से बचने के लिए वहां ऑनलाइन क्लासेस चल रही थी लेकिन अब योगी सरकार ने स्कूलों और कालेजों को फिर से खोलने का निर्णय ले लिया है।


23 नवंबर से खुलेंगे स्कूल और कॉलेज

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने 23 नवंबर से स्कूलों और विश्वविद्यालयों को फिर से खोलने का निर्णय लिया है। लेकिन इसमें कुछ नियम बना गए हैं की क्लास में छात्रों की संख्या 50% से अधिक नहीं होनी चाहिए। मतलब की आधे विद्यार्थी ही स्कूल जा सकेंगे बाकी बचे हुए आधे विद्यार्थियों को पहले जैसे ही ऑनलाइन क्लासेस से पढ़ाई करनी पड़ेगी।


उच्च शिक्षा विभाग ने भी की है गाइडलाइन तैयार

यूपी सरकार ने स्कूलों को 23 नवंबर से फिर से खोले जाने हेतु सभी जिला अधिकारियों, उच्च शिक्षा निदेशक, प्रयागराज और सभी राज्य एवं निजी विश्वविद्यालयों के कुलसचिव को पत्र लिखकर दिशा निर्देश जारी किए हैं।

उच्च शिक्षा विभाग ने केंद्र सरकार की गाइडलाइन को देखते हुए कुछ और गाइडलाइन तैयार की है जिसमें कहा गया है कि सभी बंद कमरे एवं हॉल मैं पहले के मुताबिक 50% क्षमता ही होनी चाहिए और अधिकतम 200 व्यक्तियों की अनुमति होगी। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, थर्मल स्कैनिंग, सेनीटाइजर और हैंड वॉश की उपलब्धता अनिवार्य रहेगी।

पंजाब में भी खोले गए स्कूल लेकिन छात्र नहीं आए

पंजाब में भी लगभग 8 महीने से बंद स्कूल कॉलेज और विश्वविद्यालयों को पंजाब सरकार द्वारा सोमवार से खोला गया लेकिन छात्रों की उपस्थिति बिल्कुल ना के बराबर रही। स्कूल खोलने के पहले दिन छात्र-छात्राएं कक्षाओं में नहीं पहुंचे। 8 महीनों से स्कूल और कॉलेज खुलने का इंतजार कर रहे छात्र छात्राएं कई कारणों से स्कूल नहीं आ आए।


क्या क्या थे छात्रों की अनुपस्थिति के कारण

पंजाब सरकार ने सोमवार को ही स्कूल खोल दिए जिसमें छात्रों की अनुपस्थिति का मुख्य कारण भाई दूज का त्यौहार था। सोमवार तक अधिकतर कॉलेज व स्कूल पूर्ण रूप से सैनिटाइज नहीं हुए थे इसलिए भी छात्र छात्राओं को संक्रमण का डर था। और सभी प्रकार की व्यवस्थाएं नहीं हो पाई थी इसलिए छात्रों की उपस्थिति ना के बराबर रही।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां