आज मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी का मंदसौर के सुवासरा विधानसभा में आगामी चुनाव की जनसभा में आगमन हुआ जो मध्य प्रदेश के चुनाव में कांटे की टक्कर वाली सीट है ।



आज उन्होंने अपने भाषण में कहा कि मैं चाहता हूं कि किसानों को फसल का उचित दाम मिले और आने वाले समय में 7 महीनों में जो उन्होंने कृषि से संबंधित तीन कानून बनाए हैं मंडी का निधिकरण का उन तीनों कानून को हमारी सरकार आने पर हम कानून बनाएंगे कि समर्थन मूल्य से कम कीमत पर कोई फसल नहीं बिकेगी और अगर समर्थन मूल्य से काम कोई फसल खरीदेगा तो उसे उसकी सजा मिलेगी और उसे अपराध माना जाएगा तभी हम कृषि में आगे बढ़ते हैं आजकल के नौजवान नारे लगा रहे हैं, हमारे बुजुर्गों की दुनिया तो कुछ और थी और आज इन नौजवानों की दुनिया कुछ और है , हमारे बुजुर्गों ने तो अपना जीवन काट लिया पर आज कल का नौजवान इंटरनेट से जुड़ा हुआ नौजवान है आज का नौजवान कोई ठेका नहीं चाहता कोई करप्शन नहीं चाहता वह तो व्यवसाय चाहता है और अपने हाथों को काम चाहता है

 15 साल में जितने उद्योग मध्य प्रदेश में लगे नहीं उतने उद्योग बंद हो गए याद से भिंड मुरैना में मालनपुर बना था एक बहुत बड़ा उद्योग क्षेत्र सब बंद हो गई आज पता चला वहां शराब के कारखाने चलते हैं

 किसी को मध्यप्रदेश पर विश्वास है निवेश तब आता है जब विश्वास होता हैदुकान पर आपको विश्वास हो उसी दुकान पर आप जाते हैं लेकिन मध्यप्रदेश में किसी को विश्वास नहीं, की मध्य प्रदेश की पहचान माफिया से, मध्य प्रदेश की पहचान मिलावट से, यह सब 15 साल में शिवराज सिंह ने किया था । मैंने माफिया के खिलाफ युद्ध शुरू किया हां लोग आते थे मैं कहता था चलो चलो क्योंकि कमलनाथ को कोई डरा नहीं सकता और शोध का युद्ध हमने शुरू किया और दूध का भाव बढ़ा , क्या मध्य प्रदेश की पहचान मिलावट से, माफिया से होगी एक विश्वास बना रहे मध्यप्रदेश में क्या हमारे मध्य प्रदेश की तुलना छोटे प्रदेश से होगी हमे  हमारी तुलना तो महाराष्ट्र ,तमिलनाडु ,कर्नाटका से करनी है

 आपने देखा टेलीविजन में कोरोना काल में मजदूर पैदल आ रहे थे आपने उसमें कहीं गुजरात के मजदूरों को देखा तमिलनाडु के मजदूरों को देखा, आपने तो केवल मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के अधिकतम मजदूरों को देखा सबसे ज्यादा उत्पादन तो आपने 15 साल में मध्यप्रदेश में देखा यह आज शिवराज सिंह का 15 साल का हिसाब है

 तरह-तरह के ध्यान भटकाने के फिराक में मैं तो कहता हूं आप पिछले 7 महीनों का हिसाब देखिए 7 महीनों में शिवराज जी आपने तो प्रदेश का कबाड़ा किया है

            कितने किसानों को मुआवजा मिला कितने युवाओं को रोजगार मिला कितना निवेश आया बस बोलते रहते हैं 

            आपने 15 साल बाद 2 साल पहले कहा था कि आप कांग्रेस की सरकार चाहते हैं पर आप कौन से चीज बदली शिवराज जी पिछले 7 महीनों में आपने केवल सौदे किए हैं मैं तो आज आपसे यही कहना चाहता हूं की यह तस्वीर आपके सामने है

            मैंने हमेशा प्रयास किया कि विकास के बारे में सोचू मैंने शामगढ़ में पेयजल के लिए 26 करोड़ रुपए दिया था तभी मैं था विकास मंत्री अब तो बाईपास बनाना है ,या उद्योग केंद्र बनाना है, फोर लाइन बन रही है माल   तमिलनाडु  में गुजरात से  नहीं जाएगा हमारे मध्य प्रदेश के मंदसौर से जाएगा और हमें तो रोजगार हमारे बच्चों को रोजगार मिले यहां तो हमारी नजरों में बेरोजगार होते जा रही है यहा अतिथि शिक्षक हो रही है हम स्थाई रोजगार चाहते हैं आप रोजगार की बात करते हैं आप गलत बात करते हैं रोजगार नहीं सुरक्षित रोजगार होना चाहिए ये ये कमलनाथ की सोच है हमें तो रोजगार के नए मौके मिले यही नौजवान मध्य प्रदेश का भविष्य बनेंगे

            3 तारीख के बाद यहां तंबू नहीं रहेंगे पर 3 तारीख के बाद यहां नौजवान किसान तो रहेंगे इनका भविष्य कैसे सुरक्षित रहेगा और 3 तारीख के बाद कमलनाथ भी रहेगा मैं आपसे यही कहना चाहता हूं कि जहांमंदिर के जीवनकार  की बात है , मध्य प्रदेश की कृषि, विधेयक कानून के बारे में तो मैंने पहले कह दिया कि लागू नहीं करेंगे 

            हमें हमारे वचन पत्र में तो बहुत कुछ कहा पर मैं अब दोहराना नहीं चाहता।  यहीं करना चाहता हूं कि हम मिलकर मध्य प्रदेश के विकास का एक नया इतिहास बनाएंगे ।

   *आपका अपना*

      *मंदसौर टुडे*    

*आपको रखे आगे*

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां