मंदसौर के डीएम के निर्देश पर तहसीलदार और थाना प्रभारी ने पटाखे की दुकान और बंदूक की दुकान की करी जाए

सुरक्षा की दृष्टि से की गई पटाखों और बंदूक की दुकानों की चेकिंग

मंदसौर पुलिस और प्रशासनशासन द्वारा की गई पटाखे व्यापारियों और बंदूक की दुकानों की दी गई चेकिंग आचार संहिता और त्योहारों को देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से की गई चेकिंग स्टॉक का किया गया मिलान नजदीक आते हुए और उपचुनाव के दौरान लगी आचार संहिता को देखते हुए पुलिस प्रशासन सड़कों पर नजर आए शहर में मौजूद पटाखे दुकान और बंदूक दुकानों पर जाकर स्टॉप चेक किया शाम को शहर की सड़कों पर कोतवाली टीआई और तहसीलदार घूमते नजर आए उन्होंने शहर में पटाखे और दुकानों पर जाकर  जांच करें जिसमें थोक व्यापारियों के यहां पटाखों की जांच की गई और देखा कि दी गई अनुमति से ज्यादा कथा के स्टोर तो नहीं किए गए हैं और साथ ही दुकानों पर सुरक्षा की दृष्टि से उपकरण भी चेक किए इसके साथ ही तहसीलदार और कोतवाली पुलिस की टीम शहर में स्थित बंदूक की दुकान पर भी पहुंची वहां पर भी प्रशासनिक टीम द्वारा जांच की गई और जहां रूटीन चेकिंग थी 


तहसीलदार नारायण नांदेड़ से चर्चा

मंदसौर शहर में स्थित पटाखे दुकान है वह बंदूक दुकानों का रूटीन चेकिंग किया गया कि उनमें कोई स्टॉक से मिलान किया गया कि इन में कोई वृद्धि तो नहीं है उसी संबंध में आज यह चेकिंग की गई है


गोपाल सूर्यवंशी कोतवाली थाना प्रभारी से चर्चा

पटाखों की थोक दुकानों की चेकिंग की जा रही है इनके स्टॉप वगैरा चेक किए गए हैं और सिक्योरिटी की दृष्टि से ही जांच हुई है जैसे उनके पास आग बुझाने के उपकरण है या नहीं इस संबंध में भी चेकिंग की गई साथ की बंदूकों की भी चेकिंग की गई की बंदूके वास्तव में रिपेयरिंग लायक है या नहीं उनका राउंड वगैरा रिपेयर हो सकता है या नहीं उनके संबंध में चेकिंग की गई


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Popular Posts

#मंदसौर: लापता राहुल पाटीदार की लाश मिली, पूरे इलाके में फैल गई सनसनी, पुलिस मामले की जांच में लगी हुई है, पढ़े खबर
देश का पहला CNG से चलने वाला ट्रैक्टर हुआ लॉन्च  किसानों की लगभग 2 लाख रुपए तक की बचत करेगा प्रत्येक वर्ष , सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर कि क्या है खासियत ।
उत्तराखंड में फिर से तबाही: ग्लेशियर फटने से नदी किनारे वाले सभी घर बहे, कई लोग पानी के साथ बह गए, कुछ लोगों की गई जान
खराब मौसम से अफीम फसल खराब, फसल को नष्ट नहीं करें ताकि पोस्ता ले सके सभी किसान
मंदसौर पशुपतिनाथ मंदिर में 16 फरवरी ( बसंत पंचमी) के दिन लगने जा रहा है विश्व का सबसे बड़ा घंटा । आइए जानते हैं इस घंटे की क्या है विशेषताएं ।