Responsive Ad Slot

News

News

भारत ने सबसे पहले बनाई कोरोना वायरस की दवाई भारत को मिली सबसे बड़ी कामयाबी ।(corona medicine)

Corona medicine news in hindi

जहां एक और दुनिया के सभी देश कोरोना वायरस की वैक्सीन ढूंढने में लगे हुए हैं वहां भारत में ऐसे समय में कोरोना की दवाई बनाई जिस वक्त भारत में कोरोना के केस बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं लगभग सभी लोग कोरोनावायरस के बढ़ती कोई संख्या को देखकर सभी यही जानना चाहते हैं किसकी वैक्सीन कब बनेगी लेकिन भारत में इस बीच राहत की खबर मिली बाजारों में कोरोनावायरस संक्रमण के इलाज के लिए पहली निश्चित दवा आ गई है भारत की ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल कंपनी ने एंटीवायरल दवा पेरीफेरल बनाने की अनुमति मिल गई है कंपनी फेबीफ्लू नाम से दवा बनाएगी इस दवा को उन लोगों के लिए उपयोग में लिया जाएगा जिनको कोरोना के हलके लक्षण हैं कोरोना की यह दवा ऐसे समय में सामने आई है जब भारत में संक्रमण की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है यह दवा एक राहत के रूप में सामने आए हैं 


कौनसे कोरोना मरीज इस दवा को ले सकते हैं (corona medicine )

कंपनी का कहना है मामूली संक्रमण वाले लोगों के साथ डायबिटीज के मरीज भी इस दवा को ले सकते हैं क्या दवा टेबलेट के रूप में उपलब्ध होगी इसलिए जब अस्पतालों में मरीजों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है ऐसे में मरीजों को यह टेबलेट देना सुविधाजनक होगा कंपनी का कहना है कि फेबीफ्लु  दवा फेबीफेरा का ही उन्नत रूप है जिसे मंजूरी मिली है किंतु इस दवा को डॉक्टर की सलाह से ही लेना होगा क्योंकि डॉक्टर ही इस दवा के डोस को हर मरीज के हिसाब से निश्चित कर सकता है कंपनी के मुताबिक पहले दिन इसकी 1800mg की दो खुराक लेनी होगी उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल के मुताबिक एक टेबलेट 200 एमजी की होगी इसके 1 पत्ते में 34 टेबलेट होगी जिसकी कीमत 3500 रखी गई है और इसमें एक टेबलेट की कीमत है 103 रुपए होगी यह दवा एंटीवायरल है कंपनी का कहना है कि प्रति मरीज दो पत्ते की जरूरत होगी उस हिसाब से 82000 मरीजों के लिए इस दवा को उपलब्ध कराया जाएगा क्या दवा अस्पतालों के अलावा मेडिकल शॉप पर भी धीरे-धीरे उपलब्ध कराई जाएगी कंपनी का कहना है कि उसे भारती औषधि महानियंत्रक यानि DGCI से इस दवा की उत्पाद एवं मार्केटिंग की अनुमति मिल गई है कंपनी के चेयरमैन ग्लेन सरधाना का कहना है कि यह मंजूरी ऐसे समय में मिली है जब भारत में कोरोनावायरस के मामले पहले से ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं फेबीफ्लु कोरोना संक्रमण से पीड़ित हल्के मरीजों पर काफी अच्छे नतीजे दिखाए हैं साथ ही कोरोना मैं कारगर इस दवा की मार्केटिंग से कंपनी के बुरे दिन खत्म होने की भी आशा है।

कोई टिप्पणी नहीं

टिप्पणी पोस्ट करें

Don't Miss

Copyright 2020 All rights reversed by MANDSAUR TODAY