मोबाइल एप्स से मिलेगी दवाइयां और चिकित्सक के परामर्श

आमजन मोबाइल ऐप से मिलेगी दवाइयां और चिकित्सक के परामर्श घर बैठे


कोरोनावायरस की महामारी से बचने के लिए जो 3 मई तक लॉक डाउन लगाया गया है उसके दौरान आम जनता को दवाइयों और स्वास्थ्य संबंधित परामर्श में काफी परेशानी उठानी पड़ रही है उनकी इस परेशानी को हल करने के लिए राज्य सरकार द्वारा एक मोबाइल ऐप बनाया गया जिसमें आप अपनी चिकित्सक के परामर्श और दवाइयों को ऑनलाइन ही पा सकेंगे इसमें आप अपना ऑर्डर कर पाएंगे जिससे कि आपको जो दवाइयां चाहिए वह आप के बताए गए एड्रेस पर डिलीवरी कर दी जाएगी
medicines home delivery in bhawani mandi


जिससे कि आपको इस विपत्ति भरे माहौल में बाहर जाने की आवश्यकता ना पड़े यह ऐप जिला कलेक्टर सिद्धार्थ सिहाग ने बताया की इस ऐप में सभी मेडिकल स्टोर्स को अपना मेडिकल स्टोर का प्रमाण पत्र और अपनी मेडिकल स्टोर शॉप का बोर्ड का फोटो इस ऐप पर अपलोड करना होगा जिसके बाद आपकी मेडिकल स्टोर को वेरीफाई किया जाएगा और वेरिफिकेशन होने के बाद आपको उसमें सेलिंग की अनुमति मिल जाएगी उसी प्रकार ग्राहक सीधा उस ऐप को डाउनलोड करके जो भी पास में मेडिकल होगा उससे वह आर्डर कर पाएगा इसमें आप मेडिकल स्टोर से सीधा चैटिंग के द्वारा अपना आर्डर दे पाएंगे इसी तरह डॉक्टर की सलाह भी आप चैटिंग के माध्यम से ले पाएंगे इस सुविधा से लॉक डाउन में दवाई मंगवाना काफी आसान हो जाएगा अतः इस ऐप का उपयोग करें और लॉक डाउन में घर से बाहर ना निकले यह सेवा अभी भवानी मंडी क्षेत्र में विकसित हुई है धीरे-धीरे लॉक डाउन को देखते हुए यह बाकी क्षेत्रों में भी जल्द ही शुरू कर दी जाएगी ।
App available on play store 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां

Popular Posts

#मंदसौर: लापता राहुल पाटीदार की लाश मिली, पूरे इलाके में फैल गई सनसनी, पुलिस मामले की जांच में लगी हुई है, पढ़े खबर
किसानों के कर्ज में माफ होंगे सहकारी बैंक से लिए गए 550 करोड़ रुपए की ब्याज राशि ,शिवराज कैबिनेट ने मंगलवार के दिन लिया गया हम फैसला ।
देश का पहला CNG से चलने वाला ट्रैक्टर हुआ लॉन्च  किसानों की लगभग 2 लाख रुपए तक की बचत करेगा प्रत्येक वर्ष , सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर कि क्या है खासियत ।
 अगर आप गुप्ता चौराहे पर कचौरी-समोसा खाने जा रहे हैं तो हो जाए सावधान, आपका वाहन अस्त-व्यस्त खड़ा मिला तो कट जाएगा चालान
उत्तराखंड में फिर से तबाही: ग्लेशियर फटने से नदी किनारे वाले सभी घर बहे, कई लोग पानी के साथ बह गए, कुछ लोगों की गई जान