Responsive Ad Slot

News

News

किसानों के लिए राहत प्रतिदिन 25 किसानों को मिलेंगे मैसेज

Mandsaur Today

उपार्जन समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदारी चल रही थी वहां पर अब प्रतिदिन छह व्यक्तियों इच्छा किसानों की जगह सोमवार से किसानों की संख्या को बढ़ाकर प्रतिदिन 25 किसानों को केवल आने की अनुमति होगी उन्हें मैसेज करके बुलाया जाएगा


जिला के विपणन अधिकारी रोहित कुमार श्रीवास्तव जी ने बताया है कि जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदारी निरंतर 15 अप्रैल से चल रही है उसको सोमवार से 6 किसानों के बदले 25 किसानों को मैसेज प्राप्त होंगे जिससे वह अपने गेहूं खरीदारी के लिए ला सके इसके अंतर्गत पीस छोटे किसानों को अनुमति दी जाएगी और 5 बड़े किसानों को आने वाले रविवार को भी गेहूं की खरीदारी का कार्य चलता रहेगा उस दिन गेहूं की खरीदारी का समय सुबह 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक रहेगा


अलग-अलग गांव में जिन किसानों की भूमि है वह एक केंद्र पर ही अपना माल भेज सकेंगे इसके लिए उन्हें समर्थन मूल्य पर अपना उपार्जन पंजीकरण किसान जिसका भूमि अलग-अलग गांव में है उन्हें अपनी फसल को बेचने के लिए अलग-अलग केंद्रों पर बेचने की अनुमति नहीं दी गई है क्योंकि इससे बाकी किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा


किसानों के पंजीकरण में सुविधा के लिए ई उपार्जन पोर्टल पर सभी किसान अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से एक फायदा यह भी है कि किसान अपने अलग-अलग पंजीयन नहीं कर पाएगा वह दो केंद्रों पर एक साथ गेहूं या उपज नहीं बेच पाएगा


उपज का परीक्षण पर्यवेक्षण करने के लिए अपने अपने क्षेत्र में तहसीलदार द्वारा अपने क्षेत्र के पर्यवेक्षण अधिकारी नियुक्त भी किए गए हैं जिससे उपार्जन में आई समस्याओं को दूर किया जा सके उनकी बाधाओं को वहां जाकर सुलझाया जा सके

गेहूं उपार्जन केंद्र द्वारा मांग की गई कि सभी ग्राम वासियों को लावरी में अपना पंजीयन गेहूं उपार्जन केंद्र को स्थापित करने के लिए मांग रखी है इस संबंध में सीतामऊ के अनुभव विभागीय अधिकारी को अवगत कराया गया ग्राम वासियों का यह भी कहना है कि उन्हें गलत जानकारी प्रदान करके लावरी में रजिस्ट्रेशन नहीं किया गया और उनका दूसरी जगह स्थानांतरित किया जिससे किसानों को 15 किलोमीटर दूर गेहूं तोल के लिए जाना पड़ता है जोकि बहुत ही कठिनाई पूर्ण होता है

कोई टिप्पणी नहीं

टिप्पणी पोस्ट करें

Don't Miss

Copyright 2020 All rights reversed by MANDSAUR TODAY